प्रतापगढ़, 13 फरवरी (हि.स.)। इलाहाबाद में तीन दिन पहले हुई दलित छात्र की हत्या का मामला राजनीतिक तूल पकड़ता जा रहा है। अब तक प्रदेश के कई दिग्गज नेता मृतक छात्र के घर पहुंच चुके हैं। मंगलवार को प्रदेश के उप मुख्यमंत्री केशव प्रशाद मौर्या पीड़ित के घर हथिगवां कोतवाली के भुलसा गांव पहुंचे। उन्होंने परिवार को ढाढ़स बंधाते हुए हर सम्भव मदद का भरोसा दिया। कहा कि भाजपा कमेटी बनाकर पूरे मामले की जांच करेगी किसी भी दोषी को बख्शा नहीं जायेगा।

मौर्या ने मुख्यमंत्री सहायता कोष से मृतक सरोज के पिता रामलाल सरोज को 20 लाख रूपए का सहायता चेक और हत्या के प्रकरण में अनुसूचित जाति-अनुसूचित जनजाति अत्याचार निवारण अधिनियम के तहत 4 लाख 12 हजार 500 रूपए की आर्थिक सहायता का चेक भी प्रदान किया। उन्होंने मृतक के पिता रामलाल की मांग पर उनके छोटे पुत्र को सरकारी नौकरी दिये जाने के सम्बन्ध में आश्वासन दिया कि शासन इस पर विचार करेगा। रामलाल की मांग पर एक असलहा का लाइसेन्स तत्काल दिये जाने का निर्देश जिलाधिकारी को दिया। उप मुख्यमंत्री ने दिवंगत सरोज के परिवार को पूरी सुरक्षा के लिये पुलिस अधीक्षक को निर्देश दिया।

प्रदेश के उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने इलाहाबाद में हुई हत्या में दिवंगत दिलीप सरोज के पैतृक गांव तहसील कुण्डा के भुलसा गांव पहुंचकर दिवंगत सरोज के शोक संतप्त परिवार को सांत्वना दी और कहा कि सरकार और पार्टी इस हत्याकाण्ड से बहुत दुखी है और दिलीप सरोज के हत्यारों को कठोरतम दण्ड दिलाने के लिये कृत संकल्पित है। उन्होंने कहा कि हत्या के चार नामजद अभियुक्तों में तीन की गिरफ्तारी हो चुकी है और चौथा नामजद अभियुक्त भी शीघ्र गिरफ्तार कर लिया जाएगा।

भाजपा के एक नेता का मामले में नाम आने पर केशव ने सफाई देते हुए कहा कि मुख्य आरोपी का कोई भी भाजपा नेता करीबी नहीं है। जल्द ही सभी आरोपियों की गिरफ्तारी होगी। आरोपियों द्वारा छोड़ी गयी फार्चूनर गाड़ी कुंडा नगर से बरामद लावारिस बरामद हुई है।
उप मुख्यमंत्री के साथ सांसद कौशल किशोर, इलाहाबाद की बारा सीट से विधायक अजय भारती, विधायक बाबागंज विनोद सरोज, भाजपा जिलाध्यक्ष ओम प्रकाश त्रिपाठी, ब्लाक प्रमुख कुण्डा सन्तोष सिंह आदि मौजूद रहे। जिलाधिकारी शम्भु कुमार एवं पुलिस अधीक्षक शगुन गौतम भी रहे।