पटियाला, (न्यूज़ DNN नेटवर्क) : सनौर ब्लॉक के तहत पड़ते गांव धर्मकोर्ट के सरपंच पर गाँव के 135 लोगों की पेंशन (पांच सौ रुपये प्रत्येक व्यक्ति यानि 67,500 रुपये) हड़पने का आरोप है. सरपंच के खिलाफ आरोप साबित होने के बाद भी कार्रवाई न होने से नाराज ग्रामीणों ने जिला प्रबंधकीय कांप्लेक्स के बाद डीटीपीओ कार्यालय के अधिकारी व कर्मचारियों के खिलाफ नारेबाजी की है।

Rhythm
VR
GLAXZY
Trasheen

प्रदर्शनकारियों का आरोप है कि सरपंच के साथ डीडीपीओ दफ्तर के कर्मचारियों ने मिलीभगत कर जांच पढ़ताल को ठंडे बस्ते में डाल दिया है। सरपंच के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की जा रही है. लोगों ने बताया कि सरपंच ने पंचायत सचिव सुखपाल के साथ मि भगत कर दो माह की पेंशन के कागज पर अंगूठा तो लगा लिया, लेकिन पेंशन एक माह की ही दी।

डीडीपीओ ने 05 अगस्त 2016 को जांच पड़ताल के बाद लोगों को रुकी पेंशन तो दिलवा दी। आरोप है कि भ्रष्टाचार करने वाले आरोपी सरपंच एवं सचिव के खिलाफ बनती कार्रवाई क्यों नहीं की गई, जबकि आरोप सिद्ध हो चुके हैं।

जिला डेवलेपमेंट प्लाङ्क्षनग ऑफिसर गगनदीप ङ्क्षसह विर्क ने बताया कि गांव धर्मकोर्ट में हुए पेंशन घोटाले में फंसे सरपंच को उसका पक्ष लेने के लिए बुलाया गया था, लेकिन वो जांच में शामिल होने नहीं पहुंचा। उसके खिलाफ कार्रवाई करते हुए मामले की सारी रिपोर्ट चंडीगढ़ डायरेक्टर ऑफिस भेज दी गई है।