वाशिंगटन :- (news.DNN.network) विज्ञानं के क्षेत्र में एक बड़ी पहल करते हुए वैज्ञानिकों ने प्रयोगशाला में मानव हड्डी विकसित करने का तरीका ईजाद कर लिया है। उन्होंने एक मरीज के सिर और चेहरे की बड़ी खामियों को दूर करने के लिए पहली बार लिविंग बोन विकसित की। प्रयोगशाला में विकसित इस तरह की हड्डियां मरीजों के इलाज में महत्वपूर्ण साबित होंगी।
कोलंबिया विश्वविद्यालय में प्रोफेसर गोरदाना वांजुक नोवाकोविक ने इस तकनीक में मरीज के वसा के छोटे से नमूने से बनाये गये ऑटोलॉगस स्टेम कोशिकाओं का उपयोग किया गया है और वह बिल्कुल वास्तविक हड्डी की संरचना जैसी ही है।

Rhythm
VR
GLAXZY
Trasheen