लखनऊ। लखनऊ यूनिवर्सिटी ने एक आदेश जारी कर कहा है कि छात्र-छात्राएं कैंपस में वेलेंटाइन डे न मनाएं। इसको लेकर छात्र-छात्राएं काफी मुखर हो गए हैं। इन लोगों ने विश्वविद्यालय के इस आदेश को छोटी सोच बताया है।

लखनऊ विश्वविद्यालय की ओर से जारी आदेश में कहा गया है अगर कोई छात्र-छात्रा वेलेंटाइन डे मनाते पाया गया तो उसके खिलाफ विश्वविद्यालय कड़ी कार्रवाई करेगा। लखनऊ यूनिवर्सिटी के इस सख्त आदेश को लेकर छात्र-छात्राओं में काफी आक्रोश है। हालांकि विश्वविद्यालय में कल यानी 14 फरवरी को महाशिवरात्रि का अवकाश भी है।

लखनऊ विश्वविद्यालय ने वेलेंटाइन डे से पहले छात्र-छात्राओं को फरमान जारी किया है। कुलानुशासक प्रोफेसर विनोद कुमार सिंह की तरफ से जारी आदेश में कहा गया है कि कोई भी छात्र-छात्राएं परिसर में वेलेंटाइन डे न मनाएं। सख्त हिदायत दी गई है कि अगर कोई भी ऐसा करता पाया गया तो उसके खिलाफ विश्वविद्यालय कड़ी कार्रवाई करेगा। वहीं महाशिवरात्रि के दिन विश्वविद्यालय में छुट्टी रहेगी।

यूनिवर्सिटी प्रशासन के इस आदेश पर अपनी नाराजगी जाहिर करते हुए छात्रों ने कहा कि ये एक छोटी सोच का उदाहरण है। यूनिवर्सिटी प्रशासन ने 14 फरवरी को प्रांगण में घूमने वाले छात्र-छात्राओं पर प्रतिबंध लगा दिया गया है। परिसर में नोटिस चस्पा करके प्रशासन ने चेतावनी जारी की है। इस चेतावनी में लिखा है कि अगर वे वेलेंटाइन डे वाले दिन यूनिवर्सिटी परिसर में घूमते पाए गए तो उनपर अनुसाशनात्मक कार्रवाई की जाएगी।

नोटिस में लिखा है कि 14 फरवरी को विश्वविद्यालय पूरी तरह से बंद रहेगा। न तो इस दिन कोई अतिरिक्त कक्षाएं लगेंगी न ही कोई प्रयोगात्मक परिक्षाएं होंगे। परिसर में इस दिन किसी भी प्रकार के सांस्कृतिक कार्यक्रम के आयोजन को भी प्रतिंबधित किया गया है। इसी कारण छात्र-छात्राओं को सख्त निर्देश दिए जाते हैं कि लखनऊ यूनिवर्सिटी कदापि न आएं।

प्राक्टर प्रोफेसर विनोद सिंह ने यूनिवर्सिटी में पढ़ने वाले सभी छात्र-छात्राओं के माता-पिता से भी अपील की है कि वे उनके बच्चों के यूनिवर्सिटी न भेजें। उन्होंने कहा है कि कोई भी छात्र-छात्रा यूनिवर्सिटी के आदेश का पालन नहीं करेगा तो उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। परिसर में शिक्षकों और यूनिवर्सिटी के कर्मचारियों की नजर रहेगी।