Rhythm
VR
GLAXZY
Trasheen

नई दिल्ली/पानीपत : योगेश्वर दत्त का लंदन ओलिंपिक का ब्रॉन्ज मेडल अपग्रेड होकर सिल्वर हो गया है। योगेश्वर ने मंगलवार को ट्वीट कर इसकी जानकारी दी। ऐसा लंदन ओलिंपिक के सिल्वर मेडलिस्ट बेसिक कुदुखोव के डोपिंग के दोषी पाए जाने के कारण हुआ। कुदुखोव का मेडल छीन लिया गया है। कुदुखोव ने ही प्री-क्वार्टर फाइनल में योगेश्वर को हराया था।

सिल्वर मेडल जीतने वाले दूसरे रेसलर बने योगेश्वर
योगेश्वर ने सोमवार को ट्वीट कर बताया कि- ” आज सुबह पता चला कि मेरा ओलिंपिक मेडल अपग्रेड होकर सिल्वर मेडल हो गया है। ये मेडल भी देशवासियों को समर्पित।” हालांकि, अभी तक ऑफिशियल एलान नहीं हुआ है। 2012 ओलंपिक का सिल्वर मेडल मिलते ही योगेश्वर दत्त यह मेडल पाने वाले दूसरे पहलवान हो गए। 2012 ओलंपिक में सुशील कुमार ने 66 किलोग्राम वर्ग में कुश्ती का सिल्वर मेडल जीता था।

योगेश्वर ने जीता था ब्रॉन्ज मेडल
2012 के ओलंपिक में 60 किलोग्राम वर्ग में ब्रॉन्ज मेडल के लिए हुए मुकाबले में योगेश्वर दत्त ने उत्तर कोरिया के री जोंग मयूंग को हराया था। प्री-क्वार्टर फाइनल में योगेश्वर दत्त रूसी पहलवान कुदुखोव से हार गए थे। कुदुखोव के फाइनल में पहुंचने के कारण भारतीय पहलवान को रेपेचेज के जरिए एक और मौका मिला। फिर योगेश्वर ने रेपचेज राउंड के जरिये ब्रॉन्ज मेडल जीता।

बता दें कि रेपेचेज 2 फाइनलिस्ट से राउंड-16, क्वार्टर और सेमीफाइनल में हारे रेसलर्स को ब्रॉन्ज जीतने का मौका देता है। दोनों फाइनलिस्ट से हारे रेसलर्स के बीच मुकाबले के बाद दो विनर्स को ब्रॉन्ज दिया जाता है।

रूसी पहलवान डोपिंग के दोषी, मेडल छिना
सिल्वर मेडल जीतने वाले रूसी पहलवान बेसिक कुदुखोव पर किया गया डोपिंग टेस्ट पॉजिटिव पाया गया, जिसके बाद उनका सिल्वर मेडल छीन लिया गया है। यह सिल्वर मेडल अब भारतीय पहलवान योगेश्वर दत्त को दिया जाएगा, इस बात की पुष्टि यूनाइटेड वर्ल्ड रेसलिंग के सूत्रों ने की है।

कार एक्सीडेंट में हो गई थी कुदुखोव की मौत
चार बार वर्ल्ड चैम्पियन रहे रूसी पहलवान बेसिक कुदुखोव की मौत 2013 में एक कार एक्सीडेंट में हो गई थी। रियो ओलंपिक शुरू होने से ठीक पहले इंटरनेशनल ओलिंपिक कमेटी ने लंदन ओलिंपिक के दौरान लिए गए पहलवान बेसिक कुदुखोव के सैम्पल पर फिर से डोप टेस्ट किया, जिसमें उनको दोषी पाया गया। आर्बिट्रेशन कोर्ट (कैस) ने फैसला सुरक्षित रख लिया था। रियो ओलिंपिक के कारण उस समय फैसला नहीं सुनाया गया।