नई दिल्ली : मोदी सरकार का नया फैसला हवाई जहाज से यात्रा करने वाले लोगों के लिए राहत लेकर आ रहा है। इस नए फैसले के मुताबिक भारतीय वाई क्षेत्र में उड़ान भरने वाले यात्रियों को जल्दी ही प्लेन के अन्दर WiFi की सुविधा दी जा सकती है। एवियेशन सेक्रेटरी आरएन चौबे के मुताबिक जल्दी ही इसकी औपचारिक घोषणा भी कर दी जाएगी।

Rhythm
VR
GLAXZY
Trasheen

फ्लाइट से यात्रा करते वक्त फिलहाल पैसेंजर्स को भारतीय सीमा में वाई-फाई और फोन करने की इजाजत नहीं है। पैसेंजर्स अभी प्लेन के टेकऑफ से पहले और लैंडिंग के बाद ही फोन और वाई-फाई का इस्तेमाल कर सकते हैं। पैसेंजर्स को यात्रा के दौरान अपना फोन स्विच ऑफ करके या फिर फ्लाइट मोड पर रखना होता है।

10 दिन के अंदर में होगा फैसला
एविएशन सेक्रेटरी आरएन चौबे के मुताबिक जल्दी ही इस फैसले को अमल में लाया जा सकता है। इसके लिए पूरी तैयारी कर ली गई है और मैं जल्द ही आपको अच्छी खबर देने वाला हूं। गौरतलब है कि फिलहाल भारतीय वायु क्षेत्र में उड़ान भरने के दौरान फोन और इंटरनेट इस्तेमाल करना प्रतिबंधित है।

चौबे ने बताया कि इस बात की संभावना है कि अगले दस दिनों में भारतीय वायु क्षेत्र में वाईफाई चलाने की अनुमति दिए जाने की पूरी संभावना है। अभी तक सुरक्षा कारणों के चलते कॉल्स और इंटरनेट की सुविधा नहीं दी जा रही थी। चौबे के मुताबिक इस अनुमति के बाद सबसे ज़रूरी होगा कि कॉल्स और डाटा को ट्रैक किया जा सकता है या नहीं। उन्होंने कहा कि अनुमति दी जा रही है इसका मतलब है कि हम ये सब ट्रैक कर सकते हैं। गौरतलब है कि सिर्फ डाटा ही नहीं कॉल्स की सुविधा मिलना भी अब तय माना जा रहा है।

फ्लाइट ऑपरेटर्स ने कहा, नहीं दे सकते हैं सर्विस
फ्लाइट ऑपरेटर्स ने कहा कि सरकार के इस कदम से वो खुश नहीं हैं क्योंकि फ्लाइट के दौरान ऐसी सर्विस देना काफी महंगा साबित होगा। कई कंपनियों के पास फिलहाल इंटरनेट उपलब्ध कराने की कोई सुविधा नहीं है। हालांकि सरकार ने कहा कि इस सर्विस के लिए प्राइसिंग पर किसी तरह का कोई कैप नहीं लगाया जाएगा और कंपनियां अपनी तरफ से प्राइस तय कर सकेगी।a