sahaja yoga
sahaj
sahaja

वाराणसी, 13 फरवरी (हि.स.)। काशीपुराधिपति बाबा विश्वनाथ और आदि शक्ति के मिलन के महापर्व महाशिवरात्रि पर मंगलवार को दरबार में आस्था का सैलाब उमड़ पड़ा। ग्रह-नक्षत्रों के संयोग और तिथियों के फेर के बावजूद बाबा के हजारों भक्त सुरक्षा के अभेद्य किलेबन्दी के बीच दरबार में हाजिरी लगाने पहुंचे। तड़के मंगला आरती से लगायत आधी रात शयन आरती तक दरबार में जाने के लिए शिवभक्तों की अटूट कतार लगी रही।

Rhythm
VR
GLAXZY
Trasheen

मंदिर के गर्भगृह में बाबा के प्रति श्रद्धा अनुराग की अखंड जलधार बेलपत्र मदार धतुरा दुग्ध जल ज्योर्तिलिंग पर बहती रही। इस दौरान पूरा मंदिर परिक्षेत्र हर-हर महादेव, हर-हर, बम-बम के गगनभेदी उद्घोष से गुंजायमान रहा। यही हाल जिले और शहर के प्रमुख शिवमंदिरो से लेकर छोटे बड़ें शिवालयों में रहा। पूरे दिन जिले में कंकर कंकर शंकर का नजारा रहा ।

इसके पूर्व बाबा दरबार में हाजिरी लगा पुण्य बटोरने के लिए सोमवार की शाम से ही शिवभक्त बैरिकडिंग में कतार बद्ध होते चले गये। जैसे जैसे रात चढ़ती गयी कतार का दायरा भी बढ़ता गया। इस दौरान बादलों के बीच सिहराती ठंड के बाद भी हर हर महादेव और काशी विश्वनाथ गंगे के उद्घोष से मंदिर क्षेत्र गूंजता रहा। मंगलाआरती के बाद सुबह तक बाबा दरबार में जाने के लिए एक से डेढ़ किमी लाइन लग गयी। एक कतार गंगा तट से तो दुसरी कतार बुलानाला और तीसरी गिरजाघर तक पहुंच गयी। तीन-चार घंटे से अधिक समय तक ठंड और हल्की बूंदाबादी के बावजूद लाइन में खड़े होने के बावजूद शिवभक्तों के चेहरे पर थकान नहीं दिखी। थकान मिटाने में हर हर महादेव का गगनभेदी उद्घोष रामबाण साबित हो रहा था। बाबा दरबार में पहुंचने के बाद तो भक्तों का उत्साह देखते बन रहा था।

इस दौरान किसी ने दूध से तो किसी ने गंगा जल तो किसी ने इत्र और भस्म से बाबा को नहवाया । दर्शन पूजन के लिए ज्ञानवापी छत्ताद्वार से मंदिर में शिवभक्तों को प्रवेश दिया गया। जबकि निकासी सरस्वती फाटक व ढुंढीराज गणेश मंदिर वाले गेट की गई थी।

हर शिवालय में उमड़ी भीड़
महाशिवरात्रि पर श्री काशी विश्वनाथ मंदिर के अलावा शहर और आस- पास के सभी शिवालयों में भक्तों की भारी भीड़ उमड़ी। केदारेश्वर, महामृत्युंजय, कृतिविशेश्वर, बैजनत्था, शूलटंकेश्वर, मार्कण्डेय महादेव, रामेश्वर, ऋणमुक्तेश्वर महादेव समेत छोटे शिवालयों में भी भारी भीड़ उमड़ी। इसके अलावा बीएचयू स्थित नये काशी विश्वनाथ मंदिर में भी 75000 से ज्यादा भक्तों ने मत्था टेका। यहां कार्यकारी कुलपति डा.नीरज त्रिपाठी ने भी रूद्राभिषेक किया।

चप्पे-चप्पे पर पुलिस की निगाह
महाशिवरात्रि पर जिला और पुलिस प्रशासन भी खासा चौकस नजर आया। एडीजी जोन,आईजी, डीआइजी ,एसएसपी आर.के.भारद्धाज,डीएम योगेश्वर राम मिश्र सहित अन्य अफसर व्यवस्था पर नजर रखने के लिए गश्त करते रहे। मंदिर परिसर की निगरानी ड्रोन कैमरे और सीसीटीवी से होती रही। इसके अलावा मंदिर परिक्षेत्र में लगाये गए वॉच टॉवर पर पूरे दिन पुलिस के जवान दूरबीन और हाईटेक वेपेन्स के साथ मुस्तैद रहे। वहीं मंदिर से जुड़ने वाली हर सड़क पर आरएएफ, पीएसी के जवान तैनात रहे। शहर में पुलिस और पीएसी के लगातार मूवमेंट ने कहीं भी अव्यवस्था नहीं होने दी। ट्रैफिक डायवर्जन को भी कड़ाई से
लागू कराया गया।