पिछले दिनों हैदराबाद में पोलियो वायरस मिलने के बाद तेलंगाना सरकार इसके खिलाफ एक स्पेशल कैम्पेन शुरू करने जा रही है। सीवेज वाटर के लैब टेस्ट के दौरान इस वायरस का पता लगा था। वायरस का नाम वीडीपीवी टाइप-2 है। देश में 2010 के बाद पोलियो का कोई वायरस नहीं पाया गया था। लेकिन अब इस वायरस का पता लगने से राज्य सरकार सतर्क हो गई है। तेलंगाना के प्रिंसिपल सेक्रेटरी (हेल्थ) राजेश्वर तिवारी ने कहा- “हैदराबाद और रंगा रेड्डी जिलों में 20 से 26 जून के बीच स्पेशल कैम्पेन चलाकर छह हफ्ते से तीन साल तक की उम्र के बच्चों की जांच की जाएगी।”
पोलियो से जुड़ी कुछ अहम बातें – पोलियो आमतौर पर छोटे बच्चों में एक इन्फेशन से होने वाली बीमारी है, जिसे लाइलाज माना जाता है, क्‍योंकि इससे होने वाला लकवा ठीक नहीं हो सकता। पोलियो स्‍पाइनल कॉर्ड व मैडुला की बीमारी है। स्‍पाइनल कॉर्ड वह हिस्‍सा है जो इंसान की रीढ़ की हड्डी में होता है। पोलियो कोई मसल्स या हड्डी की बीमारी नहीं है। बच्‍चों में पोलियो वायरस के खिलाफ इम्युनिटी न होने के कारण बच्चों में इस बीमारी का खतरा सबसे ज़्यादा होता है। पोलियो से बचाव के लिए बच्चों को ओरल वैक्सीन दी जाती है।

Rhythm
VR
GLAXZY
Trasheen