नई दिल्ली:  दिल्ली में एक दिल दहला देने वाली घटना सामने आई है. जहां दो मासूम बच्चियों को लड़की होने की इतनी खौफनाक सजा मिली कि किसी भी इंसान की रुह कांप जाए. दोनों बच्चियों को मुर्दों जैसे हालत में उनके घर से बरामद किया गया है. जन्म देने वाले मां-बाप इन्हें मरने के लिए छोड़ दिया था. बाप उन पर सितम ढाता रहा और मां इकलौते बेटे को साथ लेकर कहीं चली गई.

Rhythm
VR
GLAXZY
Trasheen

सिर में घाव, जिस्म में कीड़े
हफ्ते भर से भूखी प्यासी दो मासूम बहनों को एक बंद कमरे से पुलिस ने बाहर निकालकर अस्पताल में भर्ती कराया. दोनों बहनें मरने के कगार पर पहुंच चुकी थी. दोनों के सिर में जगह जगह गहरे घाव थे और उनके जिस्म में सैकड़ों कीड़े रेंग रहे थे. कमरे में एक टूटी चारपाई पर एक दूसरे का हाथ थामे मासूम बहनें दम तोड़ने के कगार थीं. कमरे का ये खौफनाक मंजर देखकर पुलिस वाले भी दंग रह गए.

कमरे से आ रही थी तेज दुर्गंध
समाज को झकझोर देने वाली कड़वी हकीकत राजधानी दिल्ली के समयपुर बादली इलाके की है. महज 8 साल की हिमांशी और 3 साल की दीपाली का कसूर सिर्फ इतना है कि, वह बेटियां हैं. मां बाप इन्हें बोझ मानते थे. इसलिए छोड़कर चले गए. इकलौते बेटे को साथ ले गए. मासूमों की सिसकती आहें, कमरे की चारदीवारी से बाहर नहीं आ पा रहीं थीं. बस, कमरे से तेज बदबू बाहर आ रही थी. जब आसपास के लोगों ने झांककर देखा. अंदर रोंगटे खड़े कर देने वाला नजारा सामने था. फौरन पुलिस को कॉल की गई. पुलिस ने दरवाजा खोला तो अंदर घुस पाना मुश्किल हो रहा था. मुंह पर कपड़ा रख पुलिस अंदर गई. सड़ी गली हालत में दोनों बच्चियों की बस सांसें चल रही थीं. ये मंजर देखकर पड़ोसियों की आंखें नम हो गईं.