पटियाला, (न्यूज़ DNN नेटवर्क) :  पंजाबी विश्व विद्यालय के कला भवन में आयोजित नौरा रिचर्डस थियेटर उत्सव के समापन समारोह में सार्थक कलामंच की ओर से वनमाला वालकर के लिखित, डॉ. लक्खा लहरी के निर्देशित नाटक उधारा पति का सफल मंचन किया गया।
निदेशक डॉ. लहरी ने बताया कि उधारा पति तामहनकर के लिखिथ मराठी नाटक उसना नवरा का ङ्क्षहदी रुपांतर है।

Rhythm
VR
GLAXZY
Trasheen

रुपातंरण डॉ. वनमाल भवालकर का है। नाटर पूर्ण तौर से मनोरंजन पर आधारित है। उधारा पति शायद ही समाज में किसी ने देखा और सुना हो। परंतु मौजूदा समय में यह असंभव नहीं लगता है। नाटक में किसी को उधारा पति की जरुरत क्यों पड़ती है। यही नाटक की बुनियाद है। कहा जाता है कि एक झूठ को छिपाने के लिए कई झूठ बोलने पड़ते है। उधारा पति नाटक में भी यही स्थिति पेश की गई है। नाटक में पम्मी का किरदार इंदू बाला, नरेश का रोल नवदीप कलेर, अशोक का रोल मंजीत ङ्क्षसह ने निभाया। इसके अलावा पूजा, संजीव राय, सहराब, कमप्रीत नज्म, मंदीप ङ्क्षसह ने अभिनय किया है।
….