लखनऊ, 07 फरवरी (हि.स.)। राजधानी लखनऊ स्थित ठाकुर गंज टीबी अस्पताल में मंगलवार की रात महिला मरीज की मौत मामले में अस्पताल प्रशासन ने चुप्पी साधी है। जानकारी के मुताबिक अस्पताल में रात में केवल एक नर्स रहती है।
अर्जुनगंज निवासी अलका यादव एक महीने से अस्पताल में महिला वार्ड के बेड नंबर 11 पर भर्ती थी।महिला के परिजनों का आरोप है कि डॉक्टर एसपी सिंह मंगलवार की सुबह राउंड पर आए लेकिन केवल मेल वार्ड में ही मरीजों को देखा। महिला वार्ड के रोगियों की फाइल उन्होंने अपने पास मेल वार्ड में ही मंगा ली और वहीं से उनको दवा लिख दी। इसके बाद शाम करीब 08 बजे उनकी पत्नी अलका यादव की तबियत अचानक खराब हो गयी तो उनको ऑक्सीजन सिलेंडर दिया गया जिसके बाद 09 बजकर 30 मिनट पर उसकी मौत हो गई।
परिजनों ने आरोप लगाया है कि जो सिलेंडर मरीज को दिया गया वो एक्सपायर हो चुका था। इसके पहले भी इसी सिलेंडर के कारण एक मरीज दम तोड़ चुका है। महिला के मरने के बाद भी कोई डाक्टर वार्ड में नहीं आया। पत्नी की मौत से परेशान पति ने इसकी शिकायत मुख्यमंत्री से करने की बात कही है।
ठाकुरगंज टीबी अस्पताल के मुख्य चिकित्सा अधीक्षक डा. सुबोध ने कहा कि महिला की हालत गंभीर थी। इस वजह से उसकी मौत हुई है। डा. सुबोध ने एक सप्ताह के भीतर पांच टीबी मरीजों की मौत मामले पर कुछ भी बोलने से इंकार किया है।