जालंधर, (न्यूज़ DNN नेटवर्क) : 8 अगस्त को जम्मू कश्मीर के माछिल सेक्टर की रौशनी पोस्ट पर आतंकवादियों से लोहा लेते घायल हुए हवलदार देवेंद्र सिंह का कल दिल्ली के आरआर हस्पताल में देहांत हो गया । शनिवार को जालंधर के दकोहा गाँव में उनका पूरे राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार कर दिया गया । इस मौके पर पंजाब सरकार की तरफ से जालंधर के डीसी कमल किशोर यादव सहित सेना के अफसरों और स्थानीय नेताओं ने उन्हें सलामी दी ।

Rhythm
VR
GLAXZY
Trasheen

सिख रेजिमेंट की सत्रहवीं बटालियन के हवलदार देवेंद्र सिंह अपनी कंपनी के साथ जम्मू-कश्मीर के माछिल इलाके को रौशनी पोस्ट पर तैनात थे। 8 अगस्त को आतंकवादियों के हमले में जवाबी कारवाही के दौरान 3 गोलियां देवेंद्र सिंह को लगीं, जिसके बाद घायल होते हुए भी अदम्य साहस दिखाते हुए देंवेंद्र सिंह ने एक आतंकवादी को मार गिराया ।

देवेंदर के गहरे जख्मो को देखते हुए उन्हें दिल्ली में आरआर हस्पताल में भर्ती कर इलाज शुरू किया गया, जहां पर हालात ज्यादा खराब होने के कारण कल उनकी मौत हो गयी । देवेंदर सिंह की शहादत के बाद आज उनके पार्थिव शरीर को जालंधर के दकोहा गाँव लाया गया, जहां उनकी पत्नी सतविंदर कौर और उनका बेटा योगन प्रीत सिंह रहता है । 38 साल के देवेंद्र सिंह ने अगले साल अप्रैल में रिटायर होने था ।

आज उनके संस्कार के मौके पर भारतीय सेना के मेजर जनरल दीपक ढांडा ने कहा,  हवलदार देवेंदर सिंह एक बहादुर सिपाही थे और उनकी शहादत और बहादुरी के चलते जिस तरह उन्होंने घायल होते हुए भी एक आतंकवादी को मार गिराया । इसके लिए उन्हें सेना मैडल से सम्मनित करने की सिफारिश की गयी है ।

वहीँ, इस मौके पर जालंधर प्रशासन की तरफ से डी सी जालंधर कमल किशोर यादव ने शहीद को आख़िरी विदाई दी । उन्होंने कहा को शहीद की शहादत को कभी भूला नहीं जा सकता और पंजाब सरकार की तरफ से हर सम्मान शहीद के परिवार को दिया जाएगा।