अहमदाबाद: गुजरात के जूनागढ़ में सोमवार देर रात एक पत्रकार की सनसनीखेज हत्या का मामला सामने आया है. परिजनों के मुताबिक, किशोर दवे ‘जय हिंद’ नाम के अखबार के ब्यूरो चीफ थे. रात करीब साढ़े नौ बजे उनके ऑफिस में ही चाकू मारकर उनकी हत्या कर दी गई. परिवार वालों ने बीजेपी के वरिष्ठ नेता रतिलाल सुरेजा के बेटे डॉ. भावेश सुरेजा पर हत्या का आरोप लगाया है.

Rhythm
VR
GLAXZY
Trasheen

यौन शोषण की खबर छापने को लेकर था विवाद 
रतिलाल सुरेजा गुजरात के मोदी सरकार में कृषि मंत्री रह चुके हैं. परिजनों का कहना है कि पिछले एक साल से किशोर दवे और डॉ. भावेश सुरेजा के बीच झगड़ा चल रहा था. डॉ. भावेश सुरेजा के खिलाफ एक महिला ने यौन शोषण का आरोप लगाया था, जिसे पत्रकार किशोर दवे ने अपने अखबार में प्रमुखता से प्रकाशित किया था. इसके बाद भावेश ने किशोर के खिलाफ मनहानि का केस भी किया था.

पहले भी मिली थी धमकियां
परिवार वालों के मुताबिक, किशोर दवे को पहले भी कई बार जान से मारने की धमकियां भी दी गई थीं. बताया जाता है कि सोमवार शाम करीब साढ़े नौ बजे जूनागढ़ के वनजारी चौक स्थि‍त एक कॉम्प्लेक्स में किशोर अपने दफ्तर में काम कर रहे थे. तभी कुछ अज्ञात हमलावरों ने उनके ऊपर छुरी से हमला कर दिया. किशोर दवे की घटनास्थल पर ही मौत हो गई. जब किशोर दवे का सहायक ऑफिस आया तब सबसे पहले उसने खून में सनी लाश देखी और पुलिस को खबर दी.

पुलिस से कहा था- मेरी जान को खतरा है
गुजरात पुलिस हत्या मामले की तहकीकात में जुट गई है. हत्या मामले में डॉ. भावेश सुरेजा के खिलाफ शिकायत दर्ज की गई है. किशोर दवे के भाई प्रकाश दवे ने पत्रकारों को बताया की हत्या रतिलाल सुरेजा और उनके बेटे डॉ. भावेश सुरेजा ने ही करवाई है.

अभी तक पुलिस को कोई सुराग नहीं मिला
प्रकाश ने आरोप लगाया कि डॉ. भावेश सुरेजा के गुंडे पहले भी कई बार जान से मारने की धमकियां दे चुके थे. उन्होंने बताया कि इस संबंध में पहले से ही पुलिस में लिखि‍त शि‍कायत की गई थी और डॉ. भावेश से जान का खतरा बताया गया था. मामले में अभी तक पुलिस को कोई सुराग नहीं मिला है. साथ ही किसी की गिरफ्तारी भी नहीं हुई है.