झांसी, 13 फरवरी (हि.स.)। बारिश और ओलावृष्टि ने एक बार फिर किसानों की मुश्किलें बढ़ा दी हैं। ओले ने फसलों को भारी नुकसान पहुंचाया है। इससे किसानों की उम्मीद इस बार टूट गई और उनके चहरों पर उदासीनता झलकनें लगी है। मऊरानीपुर तहसील क्षेत्र के किसानों ने मंगलवार को भारतीय किसान यूनियन (भानू) के तत्वाधान में मऊरानीपुर-गुरसरांय मार्ग पर जाम लगाकर प्रदर्शन किया। किसानों ने मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन उपजिलाधिकारी को देकर खेतों का सर्वे कराकर मुआवजा देने की मांग की।

यूनियन के अध्यक्ष शिव नारायण सिंह परिहार के नेतृत्व में सैकड़ों किसानों ने ओलावृष्टी के कारण नष्ट हुई फसल को लेकर मऊरानीपुर-गुरसराय मार्ग स्थित ग्राम बम्होरी के पास जाम लगा दिया। जाम लगने की सूचना मिलते ही उप जिलाधिकारी बृजेश कुमार त्रिपाठी व पुलिस क्षेत्राधिकारी बीके तिवारी मौके पर पहुंचे और किसानों से बातचीत की।

किसानों ने उपजिलाधिकारी को ज्ञापन देतेे हुए बताया कि गत रविवार-सोमवार को बरिश के साथ ओलावृष्टि होने से किसानों की फसलें पूरी तरह बर्बाद हो गई हैं। पहले सूखे ने मारा अब ओलावृष्टि से किसानों की फसलें बर्बाद हो गई हैं। किसान अब अपने आपको पूरी तरह से असहाय महसूस कर रहे है। सब कुछ बर्बाद हो जाने के बाद अब किसान शासन की ओर आस लगाए बैठा है। अगर शासन-प्रशासन मदद नहीं करता है तो किसान आत्महत्या करेगा या फिर उग्र आंदोलन करेगा।

किसान यूनियन ने खेतों का सर्वे कराकर किसानों को नष्ट हुई फसल का मुआवजा दिये जाने की मांग की है। इसके बाद उप जिलाधिकारी व पुलिस क्षेत्राधिकारी ने किसानों को आश्वासन देते हुए समझाया इसके बाद किसानों ने जाम खोला। इस दौरान डालचंद्र, राजाराम राजपूत, किशोरी लाल यादव, प्यारेलाल, हरिश्चन्द्र मिश्रा सहित तमाम किसान मौजूद रहे।