कपूरथला, (न्यूज़ DNN नेटवर्क): आबकारी व कर विभाग ने जिला भाजपा प्रधान कपूरथला की पीके एंड कंपनी फर्म को वैट डिफाल्टर घोषित करते हुए नोटिस जारी किया है। इसमें उसे 30 दिन के अंदर 95.49 लाख रुपये जमा करवाने के आदेश दिए हैं। इस मामले को लेकर भाजपा के जिला प्रधान की आगामी दिनों में मुश्किलें बढ़ सकती हैँ।

Rhythm
VR
GLAXZY
Trasheen

95.49 लाख की रकम जमा करवाने के आदेश
एक्साइज एंड टैक्सेशन विभाग ने जिला भाजपा प्रधान शाम सुंदर अग्रवाल की फर्म पीके एंड कंपनी के 2007-08 के लंबित वैट जमा करवाने के मामले में पांच अगस्त 2016 को नोटिस जारी करके 95.49 लाख की रकम जमा करवाने के आदेश दिए हैं। इसके फर्म को 30 दिन का समय दिया गया है। इस नोटिस में फर्म के मालिक को कथित तौर पर रद डीलरों और उन डीलरों, जिन्होंने या तो रिटर्न निल भरा है या फिर न के बराबर अदा किया है, से परचेज दिखाकर गलत ढंग से इनकम टैक्स क्लेम(आईटीसी) का लाभ लेने की कोशिश की गई।

टैक्स के दस्तावेजों से भी छेड़छाड़
असिस्टेंट एक्साइज एंड टैक्सेशन कमिश्नर(एईटीसी) परमजीत सिंह ने बताया कि पीके एंड कंपनी का यह रिमांड केस है, जिसे दोबारा असेसमेंट के लिए भेजा गया था। इसकी जांच ईटीओ बलजीत कौर ने एक माह में की है। इसमें यह भी पाया गया कि फर्म मालिक ने टैक्स के दस्तावेजों से भी छेड़छाड़ की, क्योंकि विभाग के कंप्यूटर में फीड डाटा और कर अदा करने वाले व्यक्ति (वैट -20) की ओर से वार्षिक टैक्स के बयान में दर्ज डाटा से अलग पाया गया।

दो करोड़ से अधिक का टैक्स भी पेंडिंग
जिन 19 फर्मों से लेन-देन दिखाया गया, उनमें से कुछ के वैट लाइसेंस तो पहले ही रद हो चुके हैं और शेष ने रिटर्न दाखिल नहीं किया या फिर नाममात्र रिटर्न भरा। एईटीसी के अनुसार वह फर्जी व्यापारी दिखाकर एक ही दिन में राशि जमा करवाकर रकम निकासी दिखाकर लेन-देन को नियमों के अनुसार दिखा रहा था। उन्होंने बताया कि भाजपा नेता का इसके अलावा दो करोड़ से अधिक का टैक्स भी पेंडिंग चल रहा है। वित्तीय वर्ष 2006-07 का 56.21 लाख, 2008-09 का 49 लाख, 2010-11 का 54.8 लाख और 2012-13 का 56.6 लाख रुपये का टैक्स बकाया है।

राजनीतिक साजिश, दूंगा चुनौती : शाम सुंदर अग्रवाल
इस मामले में जिला भाजपा प्रधान शाम सुंदर अग्रवाल ने कहा कि उन्होंने जिन फर्मों से परचेज की है, उन्होंने टैक्स अदा नहीं किया होगा। इससे उनका कोई लेना-देना नहीं है। राजनीतिक प्रतिद्वंदियों के इशारे पर उनकी छवि खराब करने की कोशिश की जा रही है। वह इस मामले को डीईटीसी जालंधर के पास अपील करके चुनौती देंगे। उधर, इस मामले को लेकर जिला भाजपा प्रधान के विरोधी गुट के लोग भी सक्रिय हो गए हैं। इस मामले को भाजपा हाईकमान के दरबार में ले जाने की तैयारियों में जुट गए हैं।

पीके एंड कंपनी पहले भी रही है चर्चा में
जिला भाजपा प्रधान शाम सुंदर अग्रवाल की फर्म पीके एंड कंपनी पहले भी चर्चा में रही है। जब पंजाब में मास्टर मोहन लाल परिवहन मंत्री थे तो उस समय उनके मंत्री वाले लेटर हेड पर पीके एंड कंपनी के ट्रकों को कहीं भी न रोकने के बारे में लिखा हुआ था, जोकि इनके ट्रक ड्राइवरों के पास ‌थे। जो कहीं भी नाके पर रोके जाने पर वह लेटर पेड दिखा देते थे। यह मामला भी मीडिया में खूब उछला था।