चार महीने की जांच के बाद नेता जी के साथ साथ मदद करने वाले भी हुए गिरफ्तार
लुधियाना 23 जून (रिंकू औलख/करण) अपनी सुरक्षा में तैनात गनमैनों की गिनती बढ़ा कर शान बढ़ाने के लालच में शिव सेना नेता अमित अरोड़ा ने अपनी गर्दन पर खुद ही सरिए से जख्म करवाया और खुद पर गोली चलने की झूठी इत्तलाह दे दी। यही नहीं अपने इस ड्रामे को फूलप्रूफ बनाने के लिए नेता जी ने घटना वाली जगह से गोलियों के दो खोल तक बरामद करवा दिए। पुलिस ने मामले की जांच शुरू की और चार महीने की लम्बी पड़ताल के बाद साफ़ हुआ कि अमित अरोड़ा ने खुद ही सारा ड्रामा रचा था।पुलिस ने आरोपी नेता की गर्दन में सरिए से गोली लगने जैसे जख्म बनाने वाले उसके सहयोगी को भी काबू कर लिया है।
पुलिस कमिश्नर जतिंदर सिंह औलख और डिप्टी कमिश्नर आफ पुलिस ध्रुमन निंबले ने बताया कि ये फर्जी गोलीकांड तीन फरवरी को प्लान किया गया था।उस दिन शिव सेना नेता अमित अरोड़ा ने बस्ती जोधेवाल में सूप की एक रेहड़ी पर खड़े होकर कंट्रोल रूम पर सूचना दी थी कि दो हमलावरों ने उसपर गोली चला कर मारने की कोशिश की।इसके बाद शिव सैनिकोंं ने अमित अरोड़ा की जान को खतरा बता कर काफी हो हल्ला भी मचाया। उस समय जांच में जुटी फोरेंसिक टीम ने भी शक जाहिर किया था कि शिव सेना नेता की गर्दन में जो घाव है वो गोली लगने की वजह से नहीं है। पुलिस ने जब आरोपी को मिले गनमैन हवलदार ओमप्रकाश और नौकर मणी से पुछताछ की तो उन्होंने सारा राज उगल दिया। पुलिस अधिकारियों के मुताबिक फरवरी तक अमित अरोड़ा के पास एक गनमैन था पर उसको गनमैनों से घिरे रहने का शौक था। आरोपी ने अपने नौकर और गनमैन के साथ मिलकर एक साजिश रची। तीन फरवरी को उसका नौकर मणी एक सरिया लेकर कार में बैठ गया। पहले वह समराला चौंक गए पर वहाँ माहौल सही ना लगा तो वहाँ से बस्ती जोधेवाल सूप की रेहड़ी पर चले गए। यहां पहुँच कर मणी ने अमित अरोड़ा की गर्दन पर सरिया मार कर घाव बनाया और फिर गोली का एक खोल कार की सीट पर फेंक दिया। इसके बाद अमित ने खुद पर गोली चलने की बात उड़ाई और मौके पर पहुंची पुलिस ने उसको सीएमसी हॉस्पिटल में भर्ती करवा दिया। जांच के लिए पहुँची सीएफएसएल की टीम ने भी रिपोर्ट दी कि अमित अरोड़ा के शरीर पर गोली लगने के जख्म नहीं हैं। पुलिस ने जांच शुरू की और जब उसके नौकर और उसके गनमैन को हिरासत में लेकर पूछताछ की तो राज खुल गया। तफ्तीश के दौरान सामने आया कि शिव सेना नेता अमित अरोड़ा ने अपने गनमैन को ये झांसा दे कर अपनी साजिश में हिस्सेदार बनाया कि अगर वो उसका साथ देगा तो वह पुलिस के आला अधिकारियों से बात करके हवलदार की प्रमोशन करवा देगा। अमित अरोड़ा की गर्दन पर सरिया मार कर निशान बनाने के बदले अमित के नौकर ने उससे एक लाख रूपए वसूले थे। पुलिस ने तीनो को गिरफ्तार करके जांच आगे बढ़ा दी है।

Rhythm
VR
GLAXZY
Trasheen