उरई, 13 फरवरी (हि.स.)। थाना सिरसाकलार में यमुना पुल के पास गत 9 फरवरी को बोरे में बंद मिले शव के मामले का पर्दाफाश हो गया है। इसके पीछे अवैध सम्बन्धों के कारण परिवार की हो रही बदनामी की वजह सामने आयी है। प्रेमी के साथ प्रेमिका को भी घरवालों ने मौत के घाट उतार दिया था। हालांकि प्रेमिका की लाश बरामद नहीं की जा सकी है। मामले में दो लोग गिरफ्तार किये गये हैं, जबकि तीन आरोपी अभी फरार हैं।

थाना सिरसाकलार क्षेत्र में यमुना नदी के सरैनी पुल के पास गत 9 फरवरी को बोरे में बंद शव मिला था, जिसकी पहचान थाना चुर्खी के नूरपुर निवासी राजवीर सिंह के रूप में हुई थी। राजवीर सिंह के पिता वीरसिंह ने इसे लेकर अपने पुत्र की हत्या का मुकदमा अज्ञात के खिलाफ दर्ज कराया था।

अपर पुलिस अधीक्षक सुरेंद्र नाथ तिवारी ने मंगलवार को जानकारी दी कि इस मामले में थाना कुठौंद के हसनपुर निवासी पूरन सिंह और थाना सिरसाकलार के सरैनी की निवासी भगवती पत्नी स्व. पल्लू को गिरफ्तार किया गया है। इनकी निशानदेही पर वह रस्सी जिससे मृतक का गला घोंटा गया था, उसके जूते व जलाये गये कपड़ों की राख बरामद की गई है।

पूछताछ में पूरन सिंह ने बताया कि उसकी बहन निशा की शादी चार साल पहले उरई कोतवाली क्षेत्र में रूरा अडडू के माधौ सिंह के साथ हुई थी। माधौ सिंह सूरत में प्राइवेट कंपनी में गार्ड था। उसी कंपनी में मृतक राजवीर सिंह भी गार्ड की ड्यूटी करता था। इस दौरान निशा और राजवीर सिंह के बीच अवैध संबंध हो गये। नतीजतन निशा माधौ सिंह को छोड़कर मायके हसनपुर में आ गई। राजवीर सिंह से मायके भी उसका संपर्क बना रहा। इससे उसके पूरे घर की बदनामी हो रही थी, जब रोकने पर भी निशा नहीं मानी तो घरवालों ने दोनों को ठिकाने लगा देने की योजना बना डाली।
इसके तहत सरैनी में रहने वाली उसकी मामी भगवती ने 6 फरवरी को निशा को अपने पास बुला लिया। पीछे-पीछे 7 फरवरी को राजवीर भी सरैनी आ गया।

वहीं पूरन सिंह ने अपने पिता लल्लू बेटा उर्फ प्रताप सिंह, भाई राजू सिंह और आनंद सिंह व मामी भगवती के साथ मिलकर दोनों की हत्या कर दी। उन लोगों ने निशा का शव बोरे में बंद कर यमुना नदी की बीच धार में फेंक दिया। राजवीर का शव भी वह लोग बोरे में नदी में फेंक आये थे लेकिन किनारे पर रह जाने से वह पुलिस को बरामद हो गया, जिससे पूरा भेद खुल गया। अपर पुलिस अधीक्षक ने बताया कि फरार आरोपियों लल्लू बेटा, राजू सिंह और आनंद सिंह की तलाश की जा रही है।