इटानगर, 17 मई (हि.स.)।
अरुणाचल प्रदेश के पर्वतारोही अंशु जमशेप्पा ने बीते मंगलवार की सुबह नौ बजे चौथी बार विश्व की सबसे ऊंची चोटी माउंट एवरेस्ट पर पहुंचकर भारतीय तिरंगा फहरा कर एक नया कीर्तिमान अपने नाम दर्ज किया।

Rhythm
VR
GLAXZY
Trasheen

ड्रीम हिमालय साहसिक खेल के प्रबंध निदेशक ने कहा कि अंशु और फूरी शेरपा ने दुनिया की सबसे ऊंची चोटी पर सफलतापूर्वक फतह हासिल की है। दो बच्चों की मां, अंशु ने मई, 2011 में माउंट एवरेस्ट को दो बार और दो साल बाद दोबारा माउंट एवरेस्ट की सफल चढ़ाई कर अपनी हिम्मत का लोहा मनवाया है। अंशु की इस कामयाबी पर पूरे राज्य में खुशी का माहौल है। लोगों ने उसे राज्य का गौरव करार दिया है।

बीते दो दो अप्रैल को गुवाहाटी से धर्म गुरु दलाई लामा ने अंशु की दोहरी चढ़ाई के अभियान को हरी झंडी दिखाई थी। अंशु ने 38 दिनों तक विपरित परिस्थिति और आसपास की अनेक छोटी चोटियों को पार करने के बाद एवरेस्ट के बेस कैंप पर बीते 13 मई को पहुंची थी। उसने वहां से अपना अंतिम चोटी की चढ़ाई का सफर 2.30 बजे शुरू किया। मंगलवार की सुबह नौ बजे हिमालय की सबसे ऊंची चोटी एवरेस्ट पर भारतीय तिरंगा फहराया।

एवरेस्ट बेस कैंप और काठमांडू के अधिकारियों ने भारतीय ध्वज को फहराने और वहां की फोटो लेने के बाद सेटेलाइट फोन के जरिए अंशु से बातचीत की थी।

अंशु ने अपने सभी परिवार, दोस्तों और समर्थकों का आभार व्यक्त किया और बताया कि वह पूरी तरह से ठीक है और अब आधार शिविर के लिए वापस लौट रही है। उन्होंने इस सफल अभियान के लिए एसबीआई, एनईसी, एनआरएल, निपको, अरुणाचल प्रदेश सरकार, टॉपसेम सीमेन्ट कंपनी आदि सभी सहयोगियों के समर्थन के लिए धन्यवा दिया।